गिलोय के फायदे | Benefit of Giloy

गिलोय के बारे में जानकारी |Information about Giloy: -


गिलोय एक किस्म की बेल है जो कि बरसात के मौसम में पेड़ों पर चढ़ी हुई पाई जाती है। यह पूरे भारतवर्ष में पाई जाती है और इसका उपयोग करने से हमारे शरीर से कई प्रकार के दूषित प्रभाव समाप्त हो जाते हैं और इससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है गिलोय में कई प्रकार के औषधीय तत्व पाए जाते हैं गिलोय को आयुर्वेद में उच्च महत्व दिया गया है।

औषधीय गुण |Medicinal Properties: -


गिलोय एकमात्र एक ऐसी औषधि है जिससे हमें 100 से ज्यादा बीमारियों में फायदा पहुंचता है गिलोय के अंदर ऐसे औषधीय तत्व होते हैं जो हमें कई प्रकार की बीमारियों से बचाती हैं दोस्तों आजकल के दौर में लोग ज्यादातर अपनी कमाई का हिस्सा बीमारियों से लड़ने में लगा देते हैं। गिलोय से सर्दी जुखाम का एलर्जी अस्थमा डेंगू स्वाइन फ्लू मलेरिया प्लेटलेट्स कम होना मधुमेह किसी भी तरह के इंफेक्शन जैसी अन्य कई बीमारियों में फायदा पहुंचाता है। और यह है हमारे शरीर में विटामिन ए विटामिन बी और विटामिन सी तथा विटामिन डी की कमी को भी पूरा करता है। यह हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ाता है।

गिलोय के अन्य भाषाओं में नाम |Names of Giloy in other languages: -


गिलोय को अलग-अलग प्रांतों में अलग-अलग नामों से भी जाना जाता है। गिलोय को अमृता, अमृत पल्ली, अमृतवेल, गडूची, वत्सादनी, गुंचा, मधुपर्णी, जैसे कई अन्य नामों से भी जाना जाता है जितने इसके नाम हैं उससे कहीं ज्यादा इसके गुण इसके अंदर समाए हुए हैं।

गिलोय के फायदे |Benefits of Giloy: -


आंखों के लिए फायदे |Benefits for eyes: -


गिलोय की बेल को 1 ग्राम शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बनाकर आंखों में काजल की तरह उपयोग करने से आंखों के सामने अंधेरा छाने, आंखों में जलन, और मोतियाबिंद जैसे रोगों से आराम मिलता है। गिलोय के रस को त्रिफला के साथ मिलाकर पीने से आंखों की रोशनी काफी हद तक बढ़ जाती है और आंखों से संबंधी बीमारियां भी नहीं होती।

कान के लिए फायदेमंद है गिलोय |Giloy is beneficial for the ear: -


गिलोय को अच्छी तरह पीसकर उसके रस को छान का रोजाना कान में एक या दो बूंद का उपयोग करने से कानों के गंदगी बाहर निकल जाती है और हमारे कान साफ रहते हैं। इससे हमारे कानों की श्रवण शक्ति भी बढ़ जाती है।

इसे भी पढ़ें:-The many benefits of mint | पुदीने को खाने के उपयोग में लाने के अद्भुत फायदे।

टीवी की बीमारी में फायदेमंद है गिलोय |Giloy is beneficial in T.V disease: -


गिलोय को सतावर, अश्वगंधा, दशमूल, को बराबर भाग मिलाकर सेवन करने से टीवी की बीमारी में बहुत आराम मिलता है लेकिन इसका सेवन दूध के साथ करना चाहिए।


कब्ज के लिए फायदे|Benefits for constipation: -


गिलोय के रस को गुड़ के साथ मिलाकर पीने से कब्जी जैसी परेशानी से छुटकारा मिलता है। इसको सेंधा नमक के साथ सेवन करने से हमारे पेट की पाचन क्रिया सही बनी रहती है और हमें अपच नहीं होती हमारा पेट भी स्वस्थ बना रहता है।

पीलिया के रोग में फायदे |Benefits in jaundice: -


गिलोय के रस को दो चम्मच शहद के साथ में रोजाना पीने से पीलिया में आराम मिलता है। गिलोय के रस को पीतल के बर्तन में रख देने से और उसका खाली पेट सुबह के समय इस्तेमाल करने से पीलिया में काफी अधिक सुधार देखने को मिलता है।

लीवर के लिए फायदेमंद है गिलोय |Giloy is beneficial for liver: -


यदि आपको लीवर से संबंधित परेशानी रहती हैं तो गिलोय के रस को नीम के पत्तों और अजमोड के साथ मिलाकर सुबह के समय पीने से लगभग 10 से 15 दिनों में आपको बहुत फायदा पहुंचेगा तथा आपको पेट से संबंधित कोई भी परेशानी नहीं होगी।

मधुमेह में फायदे |Benefits in diabetes: -


गिलोय के साथ लाल चंदन अंजन और नीम की छाल को मिलाकर रस बनाकर रात भर रखें और सुबह के समय इसके रस का सेवन करें इससे आपको शरीर में बढ़ते हुए मधुमेह से निजात मिलेगी।

गठिया के रोग में फायदे |Benefits in arthritis: -


गिलोय के रस को या गिलोय की बेल के चूर्ण को रोजाना इस्तेमाल करने से आपको घटिया से संबंधित कोई भी परेशानी नहीं होगी और है अगर तो उसने आपको काफी आराम मिलेगा।

इसे भी पढ़ें:-Ayurvedic 6 benefits of Tulsi|तुलसी से होने वाले 6 आयुर्वेदिक फायदे।

पुराने बुखार में गिलोय के फायदे |Benefits of Giloy in chronic fever: -


लगभग 50 ग्राम गिलोय के रस को लगभग ढाई सौ ग्राम पानी में मिलाकर रात भर रखकर दिन में दो-तीन बार सेवन करने से आपका पुराने से पुराना बुखार भी दूर हो जाएगा।

कफ की परेशानी में फायदे |Benefits in cough problem: -


गिलोय के रस के साथ एक दो चम्मच शहद मिलाकर इसका सेवन करने से आपको पुराने से पुराने कप की परेशानी में बहुत आराम मिलेगा और आपको कब से जुड़ी  परेशानी से छुटकारा मिलेगा।

ह्रदय संबंधी रोग में फायदे| Benefits in heart disease: -


गिलोय के रस को नीम की पत्ती और काली मिर्च के साथ मिलाकर पीने से आपको ह्रदय संबंधी परेशानियों से छुटकारा मिलेगा।

त्वचा संबंधी रोगों में फायदे | Benefits in skin diseases: -


यदि किसी व्यक्ति को फोड़े फुंसी ज्यादा निकलते हैं और कई दिनों से उसका उपचार करने के बावजूद वह सही नहीं हो पा रहे हैं तो इसका एक रामबाण इलाज है गिलोय को जूस को नीम की पत्तियों के साथ पीसकर उसका उपयोग करने से आपके खून से दूषित पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलेगी और इससे आपको फोड़े फुंसी जैसे परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। कुष्ठ रोग रोगियों के लिए भी इस रस का सेवन काफी फायदेमंद है कुष्ठ रोगी इसके रस का रोजाना 20 से 30 मिलीग्राम सेवन करें धीरे-धीरे उनको कुष्ठ रोग में काफी हद तक आराम मिलेगा।

प्लेटलेट्स की कमी को दूर करता है गिलोय |Giloy removes the deficiency of platelets: -


अगर आपके शरीर में प्लेटलेट की मात्रा कम हो गई है तो गिलोय के रस को दो चम्मच शहद के साथ मिलाकर रोजाना सेवन करने से आपके शरीर मैं प्लेटलेट्स की मात्रा बढ़ेगी।

इसे भी पढ़ें:-तरबूज के फायदे | Benefits of watermelons| healthcare tips 

गिलोय के सेवन से हमारे शरीर में विटामिंस की कमी नहीं होगी |There will be no deficiency of vitamins in our body by consumption of Giloy: -


यदि आप गिलोय का सेवन करेंगे तो आपको गिलोय से विटामिन ए विटामिन बी विटामिन सी और विटामिन डी प्रचुर मात्रा में मिलेगी और इनकी कमी से होने वाले परेशानियों से आप को छुटकारा मिलेगा।

ध्यान देने योग्य बातें |Things to note: -


मधुमेह रोगियों को अगर मधुमेह उनके शरीर में नियमित मात्रा से कम है तो उनको इसके रस का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि गिलोय मधुमेह को और कम कर देता है और इससे उनको परेशानी हो सकती है।
गर्भवती महिलाओं को भी गिलोय का उपयोग नहीं करना चाहिए।
गिलोय की मात्रा हमेशा 30 से 40 मिलीग्राम उपयोग में लानी चाहिए ज्यादा जानकारी के लिए आप अपने चिकित्सक से परामर्श ले सकते हैं।

गिलोय की कैसे करें पहचान |How to identify Giloy: -


यह बरसात के दिनों में पेड़ो पर बेल के रूप में पाई जाती है और इसके पत्ते पान के पत्तो की तरह होते हैं । यह ज्यादातर आम के पेड़ों के पास या फिर बरगद के पेड़ों के पास अक्सर कर दिखाई देती है तथा अन्य तरह के पौधों के पास भी उसको देखा जाता है आप इसकी पहचान आसानी से कर सकते हैं।



कैसे करे गिलोय को लंबे समय तक उपयोग |How to use Giloy for a long time: -


लंबे समय तक गिलोय के रस का उपयोग करने के लिए गिलोय की पत्तियों को अच्छी तरह पीसकर उसके बाद उसको 1 लीटर पानी में अच्छी कहां उबालें जब पानी एक चौथाई बच्चे तो उस पानी को छानकर आप किसी बर्तन में या फिर शीशी में भरकर लंबे समय तक उसका उपयोग कर सकते हैं। गिलोय की बेल को छांव में सुखाकर उस का चूर्ण बनाकर लंबे समय तक उपयोग में लाया जा सकता है।

दोस्तों अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा तो हमें नीचे कमेंट करके जरूर बताएं ताकि ऐसे ही उपयोगी पोस्ट हम आपके लिए लाते रहें।



Previous
Next Post »