How Protect You Can Yourself Air pollution | Health care tips Hindi | आज के इस बढ़ते प्रदूषण में अपने आप को होने वाले संक्रमण से बचाने के तरीके।

PROTECT TO POLLUTION|प्रदूषण से बचाव


एलर्जी और संक्रमण इन दिनों काफी बढ़ रहा है कि प्रदूषण और अन्य कारणों से इसकी  परेशानी लगातार होती जा रही है सांस ना ले पाने वाले कई बीमारियां उत्पन्न हो रही है जो काफी तकलीफ दे हैं । सांस फूलना जैसी बीमारी का उपचार आप अपने घरेलू उपायों की सहायता से भी कर सकते हैं।इनका हमारे शरीर पर कोई दुष्प्रभाव भी नहीं पड़ता है। तो चलिए जानते हैं कि सांस फूलने से बचने के लिए हमें क्या घरेलू उपचार करना चाहिए।

प्रदूषण से आजकल नई नई बीमारियां देखने को मिलती हैं। बूढ़े  या अधिक उम्र के लोगों के अंदर सांस से संबंधित ऐसी गंभीर परेशानियां देखने को मिलती हैं जो काफी जानलेवा साबित होती हैं।


इस पोस्ट में हम कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे जिनसे हम प्रदूषण से होने वाले खतरों को कुछ हद तक कम कर सकें। हर कोई व्यक्ति इनको आसानी से अपने घर पर अजमा सकता है पता ही है बिल्कुल सुरक्षित और निशुल्क उपाय हैं


सांस फूलने की घरेलू उपाय:-




कॉफी :- कई अध्ययनों में इस बात का संकेत मिला है कि कैसे श्वसन क्रिया के मार्ग में मांसपेशियों को आराम देता है। इससे फेफड़ों के कई कार्यों में सुधार आता है। अगर आपको भी अस्थमा जैसी कोई परेशानी रहती है तो गर्म कॉफी का सेवन जरूर करें। कॉफी सांस की नली  में रुकी हुई हवा को तुरंत खोल देती है। अगर आपको कॉफी पसंद नहीं है तो उसको पीने की जगह आप उसकी महक जरूर ले।


शहद :- शहद सांस संबंधी कई समस्याओं को दूर करने में हमारी मदद करता है शहद आयुर्वेद का सबसे पुराना और प्राकृतिक उपचार है। अस्थमा जैसी बीमारी है तो शहद वाले पानी से भाप लें। जल्द ही राहत मिलेगी।इसके अलावा आप दिन में तीन बार एक गिलास पानी में एक या दो चम्मच शहद मिलाकर जरूर पिएं। शहद बलगम को ठीक करता है और सांस की परेशानियों को भी दूर कर देता है।


अदरक :- अगर आप अपने खाने में अदरक की मात्रा बढ़ा दें। या फिर रोजाना अदरक वाली चाय पिए। अदरक में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल जैसे तत्वों की मौजूदगी पाई जाती है जो सांस की बीमारी को दूर करने में हमारी मदद करती है। एक अध्ययन में यह सामने आया है कि अदरक सांस वाले मार्ग में संक्रमण पैदा करने वाले आर एस बी वायरस से लड़ने में बहुत असरकारी पाया गया है।

अजवाइन की पत्तियां :- अजवाइन की पत्तियों में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो लेंस की अच्छे से सफाई करते हैं। इससे दमा और खांसी जैसी परेशानियां दूर होती हैं। इसलिए हमें रोजाना अजवाइन की पत्तियों का सेवन करना चाहिए।


लहसुन :-लहसुन में एंटीबैक्टीरियल तत्व पाया जाता है गले और लंग्स के बैक्टीरिया को यह अच्छे से साफ कर देते हैं और सांस की परेशानी को भी दूर करते हैं तो हमें लहसुन का भी उपयोग करना चाहिए।

अगर दोस्तों आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं। और हमारे वेबसाइट को सब्सक्राइब करना ना भूले ताकि कोई भी नया हो साथ ही उसकी सूचना मिल जाए। ऐसे ही स्वास्थ्य वर्धक जानकारियों को आप अपने मित्रों के पास जरूर शेयर करें।
Previous
Next Post »