सदाबहार के फायदे (sadabahar ke fayde)

सदाबहार के फायदे (sadabahar ke fayde)

सदाबहार के फायदे (sadabahar ke fayde)
सदाबहार के फायदे (sadabahar ke fayde)


सदाबहार के बारे में जानकारी(sadabahar ke bare mein jankari)


सदाबहार सामान्य रूप से एक ऐसा पौधा है जिस पर रंग बिरंगे फूल लगे हुए होते हैं और जो झाड़ी जैसा दिखता है। जिसे लोग अपने घरों को या बागानों को सजाने के लिए लगाते हैं यह एक झाड़ी नुमा पौधा होता है। सदाबहार का पौधा 12 माह हंसता खिलाता महसूस होता है क्योंकि इसके ऊपर आपको 12 माह फूल देखने को मिलते हैं। इस पर जामुनी गुलाबी और सफेद रंग के फूल आते हैं। इसकी पत्तियां थोड़ी अंडाकार की होती हैं। सदाबहार के फायदे हमें औषधीय विज्ञान में खूब देखने को मिलते हैं तथा। हमें यह खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि ज्यादातर लोग सदाबहार के फायदे से वंचित हैं या फिर वह लोग इसके गुणों के बारे में जानते ही नहीं हैं।

सदाबहार का पौधा ज्यादातर हमें शहरों में फार्मो की सजावट या फिर बागानों की सजावट में दिखाई देता है। देहाती इलाके में इसका मिलना आज के जमाने में नामुमकिन सा हो गया है क्योंकि एक तो लोग इसके औषधीय गुणों से अवगत नहीं है। और इसका उपयोग सही तरीके से नहीं जानते हैं।
इसलिए लोग इसको उगाना उचित नहीं समझते। सदाबहार का पौधा धीरे धीरे विलुप्त होने की कगार पर है सदाबहार के फायदे तथा इसके उपयोग हमें लोगों तक पहुंचाने चाहिए और इस पौधे को विलुप्त होने से बचाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें:-Benefits of Ashwgandha |अश्वगंधा के फायदे और नुकसान |अश्वगंधा के उपयोग हिंदी में

सदाबहार के औषधीय गुण(sadabahar ke aushadhiya gun)

सदाबहार के औषधीय गुण(sadabahar ke aushadhiya gun)


सदाबहार के फायदे हमें खांसी तथा गले में खराश और फेफड़ों में हुए संक्रमण मे मिलते हैं। सदाबहार को मधुमेह के रोग में एक उचित औषधि माना गया है। क्योंकि इसमें दर्जनों ऐसे औषधीय गुण पाए गए हैं मधुमेह नियंत्रित मात्रा में रहता है। सदाबहार की पत्तियों में विनीकर स्टीन नाम का छारीय पदार्थ होता है जो शरीर को कैंसर जैसे रोग से लड़ने में मदद करता है। विशेष रुप से खून के कैंसर में यह ज्यादा असरदार साबित होता है। औषधीय विज्ञान में सदाबहार का पौधा एक संजीवनी पौधा बन गया है। हम हमेशा यही आशा करते हैं कि जल्द से जल्द लोग इसकी महत्वता को जानेंगे और इसको क्यारियों  की सजावट तक ही सीमित नहीं रखेंगे । इसके औषधीय गुणों से भी परिचित होंगे और सदाबहार के फायदे पूर्ण रूप से ले पाएंगे।

सदाबहार के पत्ते खाने के फायदे(sadabahar ke patte khane ke fayde)

सदाबहार के पत्ते खाने के फायदे(sadabahar ke patte khane ke fayde)


सदाबहार के पत्ते खाने के फायदे कई प्रकार से लिए जा सकते हैं ज्यादातर सदाबहार के पत्ते का उपयोग सुबह खाली पेट लेने के लिए कहा जाता है और यह सही भी है इस का उपयोग खाली पेट ही करना चाहिए क्योंकि इससे आपको सदाबहार के फायदे उचित मात्रा में मिल सके।

इसे भी पढ़ें:-Benefits of neem | नीम के फायदे |health care tips

1.सदाबहार के फायदे मधुमेह के लिए।:-

सदाबहार के पत्ते को मधुमेह के रोगी प्रात: काल खाली पेट दो से तीन सदाबहार के पत्ते का उपयोग चबा चबा कर करने से मधुमेह के रूप में काफी आराम मिलेगा और उनका शुगर लेवल भी कम होगा। सदाबहार के पत्ते के फायदे लेने के लिए इसका नियमित उपयोग करना चाहिए और लगभग 1 सप्ताह तक प्रयोग करने के बाद डॉक्टरी जांच करानी चाहिए यदि आपका शुगर लेवल कम हो रहा हो तो इसका उपयोग आप 1 सप्ताह के बाद भी जारी रख सकते हैं। सदाबहार के फायदे आपको शुगर की बीमारी में काफी फायदेमंद साबित होंगे। क्योंकि सदाबहार के पत्ते में वह इंसुलिन पाए जाते हैं जिसके लिए मधुमेह रोगियों को इंजेक्शन लेना पड़ता है। इस वजह से इसके उपयोग से मधुमेह के रोग में काफी फायदा मिलता है।

2.सदाबहार के फायदे खाज खुजली में।:-

सदाबहार के पत्ते के फायदे खाज खुजली में भी आराम जलाते हैं। खाज खुजली सदाबहार के पत्तों को अच्छी तरह से पीसकर इसका पेस्ट प्रभावित जगह पर लगाने से खाज खुजली में आराम मिलेगा। तथा आपकी त्वचा को भी सुरक्षा मिलेगी।

3.सदाबहार के फायदे जहर को खत्म करने के लिए।:-

बिच्छू या ततैया के काटे जाने पर सदाबहार के पत्तों के फायदे लिए जा सकते हैं इसके पत्तों को अच्छी तरह से साफ करके पीसकर पेस्ट को काटे जाने वाले जगह पर लगाने से बिच्छू और ततैया के जहर को धीरे-धीरे खत्म करने मैं मदद मिलेगी। और बिच्छू या ततैया के काटने जाने के बाद होने वाली पीड़ा में भी सदाबहार के फायदे मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें:-गिलोय के फायदे | Benefit of Giloy

4.सदाबहार के फायदे घाव को ठीक करने के लिए।:-

आदिवासी लोग सदाबहार का उपयोग घाव को ठीक करने में उपयोग करते हैं। सदाबहार के पत्तों को अच्छी तरह पीसकर इस को दूध में मिलाकर घाव पर लगाने से घाव जल्दी पक जाता है तथा घाव पक जाने के बाद उसके अंदर से सारा मवाद बाहर निकल जाता है। इस वजह से घाव जल्दी ठीक होने के लिए सदाबहार के फायदेेे मिलते हैं।

5.सदाबहार के फायदे एलर्जी में।:-

यदि किसी प्रकार की एलर्जी हो जाती है तो उसमें सदाबहार के पत्ते के फायदे काफी कारगर साबित होते हैं। यदि किसी को एलर्जी होती है तो इसके पत्तियों को पीसकर इसके पेस्ट को एलर्जी वाली जगह पर लगाने से एलर्जी में काफी आराम मिलता है और धीरे-धीरे एलर्जी भी खत्म हो जाती है।

सदाबहार के पतियों के दूध के फायदे।(sadabahar ke pattiyon ke dudh ke fayde)


सदाबहार के पत्तियों के फायदे तो है ही मगर सदाबहार के पत्तों को तोड़ने के बाद जो दूध निकलता है उस दूध को खाज खुजली या फिर घाव पर लगाने से काफी आराम मिलता है और घाव या खुजली धीरे-धीरे करके समाप्त हो जाती है। इसके लिए आपको सदाबहार के पत्तियों को तोड़कर उसके दूध को एकत्रित करना होगा जिससे कि आप उचित मात्रा में उसका उपयोग कर सकें।

इसे भी पढ़ें:-Miracle benefits of using bitter gourd - करेले उपयोग से से होने वाले 7 चमत्कारी फायदे


सदाबहार के फूल के फायदे(sadabahar ke phool ke fayde)

सदाबहार के फूल के फायदे(sadabahar ke phool ke fayde)


1.सदाबहार के फूल के फायदे बवासीर में।:- 

बवासीर के लिए सदाबहार के फूल को पीसकर प्रभावित जगह पर लगाने से बवासीर धीरे-धीरे खत्म होने लगेगी और आपको बवासीर जैसे रोग में होने वाली पीड़ा में भी आराम मिलेगा। या फिर आप सदाबहार के फूल और सदाबहार की पत्तियों को साथ में मिलाकर इस के पेस्ट को उपयोग कर सकते हैं यह दोनों ही तरह से उपयोगी साबित होगा।


2.सदाबहार फूल के फायदे मधुमेह में।:- 

सुबह-सुबह गर्म पानी में तीन से चार फूलों को लगभग 10 मिनट तक रख देने पर और बाद में ठंडा हो जाने के बाद उसको पीने से मधुमेह में काफी आराम मिलेगा और आपका शुगर लेवल धीरे धीरे कम होगा लेकिन इसका उपयोग आपको नियमित मात्रा में लगभग 3 से 4 महीने लगातार करना होगा इसके बाद आपको सदाबहार के फायदे मिल पाएंगे।

3.सदाबहार फूल के फायदे कील मुंहासे में।:- 

सदाबहार के फूलों को पीसकर उसको कील मुहांसों पर लगाने से कील मुंहासे धीरे-धीरे खत्म होंगे और आपके चेहरे में एक सौंदर्य सा निखार भी आने लगेगा और आपकी त्वचा पहले से कहीं ज्यादा नरम और सुंदर दिखने लगेगी। इसके फूल का लेप लगभग दिन में दो बार जरूर करना चाहिए इससे आपको इसका परिणाम जल्द ही देखने को मिलेगा और आपको सदाबहार के फायदेेे पूर्ण रूप से मिलेंगे।

इसे भी पढ़ें:-The many benefits of mint | पुदीने को खाने के उपयोग में लाने के अद्भुत फायदे।

4.सदाबहार फूल के फायदे शरीर में ग्लूकोज की मात्रा को नियमित रखने के लिए।:- 

सदाबहार के लाल और गुलाबी फूल को ज्यादा उपयोगी माना जाता है। अनुसंधान में पता चला है कि लाल और गुलाबी सदाबहार के फूल बिना शक्कर वाली चाय में डाल कर कुछ देर रख पर तथा ठंडा होने के बाद इसको पीने से शरीर में ग्लूकोज की मात्रा कम होती है और डायबिटीज वाले मरीज के शरीर में शुगर की मात्रा नियंत्रित बनी रहती है और मधुमेह के रोगी को सदाबहार के फायदेे पहुंचते।

5.सदाबहार के फूल के फायदे कैंसर जैसी बीमारी के लिए।:-

वैज्ञानिकों का मानना है सदाबहार के फूल में पाए जाने वाले अल्कलायड रसायनों जैसे vinblastine और vincristine कैंसर जैसी बीमारी में काफी कारगर दवाई के रूप में साबित होते हैं। आदिवासी लोग इस पौधे का उपयोग ल्यूकेमिया जैसी बीमारी को ठीक करने के लिए करते हैं। तथा अन्य बीमारियों में भी सदाबहार के फायदेे लेत हैं।

इसे भी पढ़ें:-Ayurvedic 6 benefits of Tulsi |तुलसी से होने वाले 6 आयुर्वेदिक फायदे। 


ध्यान देने योग्य बातें।(Dhyan dene yogya baten)


यदि कोई औषधि फायदेमंद साबित होती है तो उसके कुछ ना कुछ दुष्परिणाम भी होते हैं ऐसा ही सदाबहार के बारे में है इसके पत्तियों का या फिर किसी विभाग का ज्यादा सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है क्योंकि इसमें ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में शुगर की मात्रा को कम करते हैं ज्यादा सेवन करने से शरीर में शुगर की मात्रा कम हो जाएगी जिससे शुगर के मरीज को परेशानी हो सकती है तो कृपया करके इसका ज्यादा उपयोग या फिर उचित मात्रा में प्रयोग डॉक्टरी सलाह पर ही करें।

यह जानकारी आपको अगर अच्छी लगी तो हमें नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके जरूर बताएं और ऐसी ही स्वास्थ्यवर्धक जानकारियां आप अपने मित्रों तक शेयर जरूर करें।

Previous
Next Post »